शिक्षक पर संस्कृत श्लोक | Shloka in sanskrit on guru & meaning in Hindi|Guru Purnima

Shloka on guru|Guru Purnima

Sanskrit slokas on guru  दोस्तों गुरु एकऐसा देवता रूपीइंसान जो हमलोगो को साक्षरबनता है | हरइंसान का पहलागुरु उसकी माँही होती है| जो इंसान कोचलना सिखाती है, बात करना सिखातीहै, सही गलतक्या है सिखातीहै, जीने केलिए तौर तारीखेसीखती है | “माँएक भगवन रूपीगुरु ही तोहै”, जो हरव्यक्ति को जीवनभर दिशा केसाथ आशीर्वाददेती है | पहलेके ज़माने मेंबच्चों को पढ़नेके लिए आश्रमजाना पड़ता था| पढ़ना भी एकतपस्या ही थीउन दिनों मेंबच्चे ऋषिमुनियों सेज्ञान हासिल करते थे| समय के साथपढ़ने का तरीकाभी बदल गयाआज हमारे गुरुस्कूल मे हमेपढ़ाते है | आजके इस इक्विसवे सदी मेहम अपने गुरुको ऑनलाइन स्कूल, कॉलेज, से भी ज्ञानहासिल कर सकतेहै | गुरु वह हरएक इंसान है जिससे हमें कुछसिखने मिलता है| आइयेहम जानते हैगुरु के बारेमें | गुरु एकज्ञान का असीम भंडारहै जो सामजका अँधेरा ज्ञानरूपी माध्यम सेप्रकाशित करता है| गुरु इंसान को दिशादिखाता है | उसेआगे बढ़ने मेंमदत करता है| गुरु हम लोगों को अच्छे संस्कारभी देता है| अगर जीवन मे कोईगुरु ना होतातो जीवन दिशाहीनजहाज के तरहहोता, जिसे अपनीमंजिल का कोईअता-पता नहीं होता| गुरुपूर्णिमा के दिनहम गुरु कोपूजते है |आइये हम जानते है  संस्कृत श्लोका गुरु पर और हिंदी मे अर्थ|

Shloka on guru in Sanskrit

Guru vandana shloka lyrics-Gurur bhramha gurur vishnu shloka in sanskrit

 

गुरुर्ब्रह्मागुरुर्विष्णु र्गुरुर्देवो महेश्वरः

गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मैश्रीगुरवे नमः

 

Sanskrit shloka on teacher in English

 

GururBrahma GururVishnu GururDevo Maheshwaraha

Guru Saakshaat ParaBrahma Tasmai Sri Gurave Namaha

 

 

संस्कृत श्लोका गुरु पर और हिंदी मे अर्थ 

 

गुरु सृष्टिकर्ता (ब्रह्मा) हैं, गुरु (विष्णु) हैं, गुरुदेवविनाशक (महेश्वरी) हैं|

गुरु स्वयं पूर्ण (एकवचन) भगवान हैं, उसश्री गुरु कोसलाम|

 

गुरु: अंधेरे का तिरस्कार; 

गु= अंधेरे, 

रु  = का तिरस्कार;

ब्रह्मा: निर्माता; ईश्वर कीगुणवत्ता 

विष्णु: ईश्वर कीगुणवत्ता 

देवता: भगवान

महेश्वरा: विध्वंसक; भगवान कीगुणवत्ता को नष्ट 

साक्षात्: स्वयं / स्वयं

पराब्रह्म: वह जो सर्वोच्चभगवान है; चेतना

तस्मै: उसेकरने के लिए/ इस तरह

श्री: पवित्र, शानदार

नमः नमस्कारः

हिंदू धर्म में, ब्रम्हा, विष्णु (नारायण याहरि) और महेश(महादेव, शिव / शंकर) कीतिकड़ी को त्रिदेवोंके रूप मेंभी जाना जाताहै, जो दुनियाके लिए जिम्मेदारहैं। जिसमें ब्रह्मापूरे ब्रह्मांड केनिर्माता हैं, विष्णुवह है जोइसे बनाए रखनेके लिए जिम्मेदारहै; जबकि शिवाविध्वंसक है (बसजो कुछ भीबनाया जाता है, समय में खोदिया है, ‘परिवर्तन’ के लिए, सबसेबड़ी सच्चाई मेंसे एक है।)

 

तो, गुरु ब्रह्मागुरु विष्णु गुरुदेवो महेश्वरो, [गुरु{केवल शिक्षक केरूप में अनुवादित, लेकिन उससे भीबड़ा अर्थ है, जैसे कि ‘जीवनका मार्गदर्शक’} ब्रह्माहै, गुरु विष्णुहै और गुरुभी महेश्वर है[maha [सबसे बड़ा} + ईश्वर {भगवान} = देवताओं के देव, शिव)। बसगुरु 3 में 1 ब्रह्मा, विष्णु, और महिपाल हैं।

 

छात्र के जीवनमें, गुरु प्रमुखभूमिका निभाता है, क्योंकिवह निर्माता है, आम तौर परजन्म देने वालानहीं, बल्कि ज्ञानदेने वाला होताहै, जो जीवनमें उतना हीमहत्वपूर्ण है। वह/ वह भी अनुरक्षकहै क्योंकि वहया वह समाधानके प्रत्यक्ष याअप्रत्यक्ष स्रोत हैं जोजीवन में दर्दके लिए उपचारहैं। वह छात्रजीवन में अंधकारका नाश करनेवाला भी है।

 

तो अंत मेंयह श्लोक (श्लोक) स्वयं को hat गुरुसाक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवै नमः ’(गुरु वास्तविकoriginal महान मूल तत्व’(PARABRHMHA) है, इसलिए गुरु केलिए श्रद्धांजलि है)। [नोट: ब्रह्मा (भगवान) और परब्रह्मपूरी तरह सेअलग अवधारणाएं हैं]।

 

हिंदू धर्म मेंगुरु को मोटेतौर पर विभिन्नविद्वानों से परिभाषितकिया गया है।उनमें से कुछने बताया कि’कुछ भी जोआपको कम मात्रामें ज्ञान देताहै, वह हैगुरु’ तो, दत्तात्रेय, एक अन्य मिथकीयभगवान जो तीनोंब्रह्मा, विष्णु, के संयोजनमें थे महेशके पास 24 गुरुथे, जिसमें नदीऔर पत्थरों जैसेजीवित गैर अस्तरशामिल थे ( क्रमशःप्रकृति और कठोरताकी मदद करनेके लिए) माँको भी पहलागुरु माना जाताहै जो हमेंदुनिया का पहलाज्ञान देते हैं।

 

 

दोस्तो उम्मीद करते है, दोस्तों यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी, अपने दोस्तों के साथ शेयर करिये, ऐसे ही ज्ञान और मनोरंजन पोस्ट को फॉलो करिये |

दोस्तों गुरु एकऐसा देवता रूपीइंसान जो हमलोगो को साक्षरबनता है | हरइंसान का पहलागुरु उसकी माँही होती है| जो इंसान कोचलना सिखाती है, बात करना सिखातीहै, सही गलतक्या है सिखातीहै, जीने केलिए तौर तारीखेसीखती है | “माँएक भगवन रूपीगुरु ही तोहै”, जो हरव्यक्ति को जीवनभर दिशा केसाथ आशीर्वाददेती है | पहलेके ज़माने मेंबच्चों को पढ़नेके लिए आश्रमजाना पड़ता था| पढ़ना भी एकतपस्या ही थीउन दिनों मेंबच्चे ऋषिमुनियों सेज्ञान हासिल करते थे| समय के साथपढ़ने का तरीकाभी बदल गयाआज हमारे गुरुस्कूल मे हमेपढ़ाते है | आजके इस इक्विसवे सदी मेहम अपने गुरुको ऑनलाइन स्कूल, कॉलेज, से भी ज्ञानहासिल कर सकतेहै | गुरु  वह हरएक इंसान है  जिससे हमें कुछसिखने मिलता है|  आइयेहम जानते हैगुरु के बारेमें | गुरु एकज्ञान का असीम भंडारहै जो सामजका अँधेरा ज्ञानरूपी माध्यम सेप्रकाशित करता है| गुरु इंसान को दिशादिखाता है | उसेआगे बढ़ने मेंमदत करता है| गुरु हम लोगों को अच्छे संस्कारभी देता है| अगर जीवन मे कोईगुरु ना होतातो जीवन दिशाहीनजहाज के तरहहोता, जिसे अपनीमंजिल का कोईअता-पता नहीं होता| गुरुपूर्णिमा के दिनहम गुरु कोपूजते है |आइये हम जानते है  संस्कृत श्लोका गुरु पर और हिंदी मे अर्थ|

संस्कृत श्लोका गुरु पर और हिंदी मे अर्थ shloka in sanskrit on guru & meaning in Hindi,

Guru vandana shloka lyrics-Gurur bhramha gurur vishnu shloka in sanskrit

 

गुरुर्ब्रह्मागुरुर्विष्णु र्गुरुर्देवो महेश्वरः

गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मैश्रीगुरवे नमः

 

Sanskrit shloka on teacher in English

 

GururBrahma GururVishnu GururDevo Maheshwaraha

Guru Saakshaat ParaBrahma Tasmai Sri Gurave Namaha

 

 

संस्कृत श्लोका गुरु पर और हिंदी मे अर्थ 

 

गुरु सृष्टिकर्ता (ब्रह्मा) हैं, गुरु (विष्णु) हैं, गुरुदेवविनाशक (महेश्वरी) हैं|

गुरु स्वयं पूर्ण (एकवचन) भगवान हैं, उसश्री गुरु कोसलाम|

 

गुरु: अंधेरे का तिरस्कार; 

गु= अंधेरे, 

रु  = का तिरस्कार;

ब्रह्मा: निर्माता; ईश्वर कीगुणवत्ता 

विष्णु: ईश्वर कीगुणवत्ता 

देवता: भगवान

महेश्वरा: विध्वंसक; भगवान कीगुणवत्ता को नष्ट 

साक्षात्: स्वयं / स्वयं

पराब्रह्म: वह जो सर्वोच्चभगवान है; चेतना

तस्मै: उसेकरने के लिए/ इस तरह

श्री: पवित्र, शानदार

नमः नमस्कारः

हिंदू धर्म में, ब्रम्हा, विष्णु (नारायण याहरि) और महेश(महादेव, शिव / शंकर) कीतिकड़ी को त्रिदेवोंके रूप मेंभी जाना जाताहै, जो दुनियाके लिए जिम्मेदारहैं। जिसमें ब्रह्मापूरे ब्रह्मांड केनिर्माता हैं, विष्णुवह है जोइसे बनाए रखनेके लिए जिम्मेदारहै; जबकि शिवाविध्वंसक है (बसजो कुछ भीबनाया जाता है, समय में खोदिया है, ‘परिवर्तन’ के लिए, सबसेबड़ी सच्चाई मेंसे एक है।)

 

तो, गुरु ब्रह्मागुरु विष्णु गुरुदेवो महेश्वरो, [गुरु{केवल शिक्षक केरूप में अनुवादित, लेकिन उससे भीबड़ा अर्थ है, जैसे कि ‘जीवनका मार्गदर्शक’} ब्रह्माहै, गुरु विष्णुहै और गुरुभी महेश्वर है[maha [सबसे बड़ा} + ईश्वर {भगवान} = देवताओं के देव, शिव)। बसगुरु 3 में 1 ब्रह्मा, विष्णु, और महिपाल हैं।

 

छात्र के जीवनमें, गुरु प्रमुखभूमिका निभाता है, क्योंकिवह निर्माता है, आम तौर परजन्म देने वालानहीं, बल्कि ज्ञानदेने वाला होताहै, जो जीवनमें उतना हीमहत्वपूर्ण है। वह/ वह भी अनुरक्षकहै क्योंकि वहया वह समाधानके प्रत्यक्ष याअप्रत्यक्ष स्रोत हैं जोजीवन में दर्दके लिए उपचारहैं। वह छात्रजीवन में अंधकारका नाश करनेवाला भी है।

 

तो अंत मेंयह श्लोक (श्लोक) स्वयं को hat गुरुसाक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवै नमः ’(गुरु वास्तविकoriginal महान मूल तत्व(PARABRHMHA) है, इसलिए गुरु केलिए श्रद्धांजलि है)। [नोट: ब्रह्मा (भगवान) और परब्रह्मपूरी तरह सेअलग अवधारणाएं हैं]।

 

हिंदू धर्म मेंगुरु को मोटेतौर पर विभिन्नविद्वानों से परिभाषितकिया गया है।उनमें से कुछने बताया कि’कुछ भी जोआपको कम मात्रामें ज्ञान देताहै, वह हैगुरु’ तो, दत्तात्रेय, एक अन्य मिथकीयभगवान जो तीनोंब्रह्मा, विष्णु, के संयोजनमें थे महेशके पास 24 गुरुथे, जिसमें नदीऔर पत्थरों जैसेजीवित गैर अस्तरशामिल थे ( क्रमशःप्रकृति और कठोरताकी मदद करनेके लिए) माँको भी पहलागुरु माना जाताहै जो हमेंदुनिया का पहलाज्ञान देते हैं।

Shloka on Guru Purnima (2023)

 

 

दोस्तो उम्मीद करते है, दोस्तों यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी, अपने दोस्तों के साथ शेयर करिये, ऐसे ही ज्ञान और मनोरंजन पोस्ट को फॉलो करिये |

YOU MAY LIKE
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Leave a Comment