संस्कृत श्लोक नारी शक्ती Sanskrit shloka on women’s empowerment

Sanskrit shloka on womens empowerment,nari shakti,womens day


 नास्ति मातृसमा छाया, नास्ति मातृसमा गतिः। नास्ति मातृसमं

त्राणनास्ति मातृसमा प्रिया।।


Meaning:- माता के समान कोई छाया नहीं, कोई आश्रय नहीं, कोई

सुरक्षा नहीं। माता के समान इस दुनिया में कोई जीवनदाता नहीं॥

           >10 Sanskrit Quotes-Famous Sanskrit Quotes

            Who knew that these sanskrit shlokas existed?

                        Top 10 Cheapest and best hosting in India

 मातृवत् परदारेषु : पश्यति: एव पंडित


Meaning:- वहजो अन्य स्त्री  को माँके रूप मेंदेखता है, वहवास्तव में महानहै|

 

 नारी राष्ट्रस्य अक्शि अस्ति

 

Meaning:- महिलाराष्ट्र की आंखहै।

 

 राष्ट्रस्यश्व: नारी अस्ति

 

Meaning:- महिलाहमारा कल है।

 

 नारी माता अस्तिनारी कन्या अस्तिनारी भगिनी अस्ति

 

Meaning:- महिलामाँ हैमहिलाबेटी हैमहिला बहन हैमहिला सब कुछ है |

 

 नारी अस्य समाजस्यकुशलवास्तुकारा अस्ति

 

Meaning:- महिलासमाज की आदर्शवास्तुकार है|

 

 यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्तेतत्र देवता

 

Meaning:- जहाँमहिलाओं की पूजाहोती है वहाँदेवता आनंदित  होतेहैं|

 

YOU MAY LIKE>> CHECK THESE

Leave a Comment